top of page

मुंशी प्रेमचंद गोदान

Updated: Mar 26, 2023


मुंशी प्रेमचंद गोदान,kahani,hindi kahani,desi kahani,story in hindi,viral trends
मुंशी प्रेमचंद गोदान, kahani

"गोदान" मुंशी प्रेमचंद का एक उपन्यास है जिसमें होरी नाम के एक गरीब किसान और उसके परिवार की कहानी है जो बीसवीं सदी की शुरुआत के दौरान उत्तरी भारत के एक छोटे से गांव में रहते हैं।


हरि एक मेहनती किसान है जो अपने परिवार के लिए दैनिक आवश्यकता को पूरा करने के लिए संघर्ष करता है। वह गरीबी और कर्ज के चक्रव्यूह में फंसा हुआ है, उन साहूकारों को चुकाने में असमर्थ है, जिन्होंने उसे उच्च ब्याज दरों पर पैसा उधार दिया है। हरि की पत्नी धनिया उसे एक गाय खरीदने के लिए कहती है ताकि उनके परिवार को पीने के लिए दूध मिल सके। हरि सहमत हो जाता है, लेकिन उसके पास गाय खरीदने के लिए पैसे नहीं हैं।


हरि एक स्थानीय साहूकार से पैसे उधार लेने का फैसला करता है, लेकिन ब्याज दर इतनी अधिक है कि वह कर्ज चुकाने में असमर्थ है। साहूकार लाला भीकमचंद हरी की हताशा का फायदा उठाकर उसका और शोषण करता है, जिससे उसके कर्ज में और अधिक ब्याज जुड़ जाता है।


जैसे-जैसे कहानी सामने आती है, उपन्यास गरीबी, शोषण और सामाजिक असमानता के विषयों की पड़ताल करता है। हरि के चरित्र और उनके संघर्षों के माध्यम से मुंशी प्रेमचंद भारतीय समाज में गरीबों के साथ हो रहे अन्याय और कठिनाइयों को उजागर करते हैं। इस उपन्यास में गहरी जाति व्यवस्था और निचली जातियों के लोगों के साथ हो रहे भेदभाव को भी दर्शाया गया है।


हरि के संघर्षों के बावजूद वह एक दयालु और उदार व्यक्ति बने हुए हैं, हमेशा जरूरतमंदों की मदद करने को तैयार रहते हैं। वह मालती नाम की एक युवती से दोस्ती करता है, जिसे उसके पति ने त्याग दिया है और अपने लिए छोड़ दिया है। हरि मालती को अपने पंख के नीचे ले जाता है और उसे अपने पैरों पर वापस लाने में मदद करता है, भले ही वह शायद ही अपने परिवार का समर्थन कर सके।


इस उपन्यास में अन्य यादगार पात्र भी हैं, जैसे गोबर, हरि का बेटा, जो स्कूल जाने और शिक्षा प्राप्त करने का सपना देखता है, और लाला मोतीचंद, एक अमीर भूस्वामी जो भ्रष्ट और हेराफेरी है।


जैसे ही कहानी अपने चरम पर पहुंचती है, हरि को एहसास होता है कि गरीबी और ऋण के चक्र से मुक्त होने का एकमात्र तरीका उदारता का अंतिम कार्य करना है: हिंदू धर्म में पवित्र कार्य माने जाने वाले ब्राह्मण को गाय का दान करना। हालांकि, हरि की उदारता का काम बड़ी कीमत पर आता है, और उपन्यास एक दुखद नोट पर समाप्त होता है।


"गोदान" में मुंशी प्रेमचंद भारतीय समाज और उसके सामाजिक और आर्थिक ढांचों की कटु आलोचना प्रस्तुत करते हैं। उपन्यास आधुनिक समाज में मानवीय स्थिति और नैतिकता और नैतिकता की जटिलताओं पर एक शक्तिशाली टिप्पणी है। यह भारतीय साहित्य का एक क्लासिक बना हुआ है और आज भी व्यापक रूप से पढ़ा और अध्ययन किया जा रहा है।


Story in hindi- आज की kahani हिंदी कहानी hindi kahani है मुंशी प्रेमचंद की गोदान का सारांश ये एक kahani हिंदी में और desi kahani श्रेणी में आती है।


Recent Posts

See All

Comentários


bottom of page